मंगलवार, 8 जनवरी 2019

Short true love story in hindi - प्यार तो बस हो जाता है

Short true love story in hindi - pyar to bas ho jata hai


हिन्दी मे ये कहानी पढ़ने के लिए नीचे जाये


Yah kahaani aap blog lovestoryhindi.com par padh rahe hai. Yah ek sachchi pyaar ki kahaani hai.  Graduation to  puri kar li thi. lekin use koi naukri nahin mil paa rahi thi.  Shubham ke papa ke ek acche dost jo delhi me rahte the. Shubham ke papa ne unse baat ki to unhone kahaa shubham ko bhej de.  Naukri vah lagvaa denge.


Shubham deelhi  pahunc gaya.  Chhote gaanv ka ladka jab kisi bade shahar men aataa hai to vahaa ki raunak dekhkar vah achambhit ho jaataa hai. Aisaa hi shubham ke saath ho rahaa tha. dhire-dhire shubham es shahar me dhalne lagaa.


Uski naukri ek acchhi kampni me lag chuki thi. Lekin akelaa hone ke kaaran uskaa man nahi lag rahaa tha.  Office jaane ke baad vah apne kamre me akelaa hi rahtaa. Usne socha kyon naa papa ke dost ke paas jaakar thodaa samay bitaayaa jaye.

Short true love story in hindi - pyar to bas ho jata hai


Ab vah saptaah men 2 se 3 baar papa ke dost ke paas jaayaa kartaa tha. Vaha use kafhi aadar satkaar miltaa tha. Uncle ki eklauti ladki bhi thi jiskaa naam tha neha. Ab neha aur shubham ki thodi thodi baatchit hone lagi thi.


Shubham kisi na kisi bahaane se Uncle ke ghar jaayaa kartaa tha.  Use neha pasand aane lagi thi aur shaayad neha ko bhi shubham pasand aane lagaa tha.  Ab kisi naa kisi bahaane se donon ghar se baahar bhi milaa karte the.


Dhire dhire movie dekhnaa shaam ko tahalnaa donon kaa kaam ho gayaa. Dono ek dusre ko andar hi andar pyaar karne lage the. Lekin himmat kisi ki nahi ho paa rahi thi bolne ki. Ek din achaanak shubham ko 5 din ke liye gaav jaana padaa.

Short true love story in hindi - pyar to bas ho jata hai


jab vaapas delhi aayaa to usne dekha nehaa bimaar hai. Neha ne shubham ko dekhte hi use apne gale se lagaa liyaa.  Shubham ne puchha kyaa tum bhi mujhse pyaar karti ho. Neha ne kas kar shubham ko pakad liyaa aur kah diyaa haa.


Dono bahut khush hue lekin yah khushi jyaada din tak nahin tik paai.  kyoki neha ke papa ne neha ki shaadi tay kar di thi. Us din neha bahut roi. Shubham ne kaha main tumhaare papa se baat kar lunga, lekin neha ne kaha ki mai apne papa se bahut pyaar karti hun aur unkaa dil nahi dukhaanaa chaahti.


Tum mujhe bhul jaao.  Yah sunte hi shubham ke aankhon se paani bahne lagaa. Shubham ko aisaa lagaa ki jaise uski dhadakan hi ruk gayi ho. Lekin vah neha ki khushi ke liye  yah baat maanne ke lia taiyaar tha. Jaate vakt shubham ne kahaa tum hameshaa khush raho.


short love story, short true love story in hindi
true love story


हिन्दी मे ये कहानी यहा से पढे 

Short true love story in hindi - प्यार तो बस हो जाता है

यह कहानी आप ब्लॉग lovestoryhindi.com पर पढ़ रहे है। यह एक सच्ची प्यार की कहानी है शुभम ने ग्रेजुएशन पूरी कर ली थी। लेकिन उसे कोई नौकरी नहीं मिल पा रही थी। शुभम के पापा के एक अच्छे दोस्त जो दिल्ली मे रहते थे। शुभम के पापा ने उनसे बात की तो उन्होंने कहा शुभम को भेज दें। नौकरी वह लगवा देंगे।


शुभम दिल्ली पहुंच गया। छोटे गांव का लड़का जब किसी बड़े शहर में आता है तो वहां की रौनक देखकर वह अचंभित हो जाता है। ऐसा ही शुभम के साथ हो रहा था। धीरे-धीरे शुभम इस शहर मे ढलने लगा।


उसकी नौकरी एक अच्छी कंपनी में लग चुकी थी। लेकिन अकेला होने के कारण उसका मन नही लग रहा था। ऑफिस जाने के बाद वह अपने कमरे में अकेला ही रहता। उसने सोचा क्यों ना पापा के दोस्त के पास जाकर थोड़ा समय बिताया जाए।

Short true love story in hindi - प्यार तो बस हो जाता है


अब वह सप्ताह में दो से तीन बार पापा के दोस्त के पास जाया करता था। वहा उसे काफी आदर सत्कार मिलता था। अंकल की इकलौती लड़की भी थी। जिसका नाम था नेहा। अब नेहा और शुभम की थोड़ी थोड़ी बातचीत होने लगी थी।

शुभम किसी ना किसी बहाने से अंकल के घर जाया करता था। उसे नेहा पसंद आने लगी थी और शायद नेहा को भी शुभम पसंद आने लगा था। अब किसी ना किसी बहाने से दोनों घर से बाहर भी मिला करते थे। धीरे धीरे मूवी देखना शाम को टहलना दोनों का काम हो गया।


दोनो एक दूसरे को अंदर ही अंदर प्यार करने लगे तेल लेकिन हिम्मत किसी की नही हो पा रही थी बोलने की। एक दिन अचानक शुभम को 5 दिन के लिए गांव जाना पड़ा।

Short true love story in hindi - प्यार तो बस हो जाता है


जब वापस दिल्ली आया तो उसने देखा नेहा बीमार है। नेहा ने शुभम को देखते ही उसे अपने गले से लगा लिया। शुभम ने पूछा क्या तुम भी मुझसे प्यार करती हो। नेहा ने कस कर शुभम को पकड़ लिया और कह दिया हां।


दोनों बहुत खुश हुए लेकिन यह खुशी ज्यादा दिन तक नहीं टिक पाई। क्योकि नेहा के पापा ने नेहा की शादी तय कर दी थी। उस दिन नेहा बहुत रोई। शुभम ने कहा मैं तुम्हारे पापा से बात कर लूंगा। लेकिन नेहा ने कहा कि मैं अपने पापा से बहुत प्यार करती हूं और उनका दिल नहीं दुखाना चाहती।


तुम मुझे भूल जाओ। यह सुनते ही शुभम के आंखों से पानी बहने लगा। शुभम को ऐसा लगा कि जैसे उसकी धड़कन ही रुक गई हो। लेकिन वह नेहा की खुशी के लिए यह बात मानने के लिए तैयार था। जाते वक्त शुभम ने कहा तुम हमेशा खुश रहो।

ये कहानी भी जरूर पढे 

0 comments: