गुरुवार, 13 दिसंबर 2018

Love Story In Hindi - Collage Ka पहला दिन और वह Ladki

Love story in Hindi - College ka pahla Din Aur Woh Ladki

यह स्टोरी हिन्दी में पढने के लिए नीचे जाए.


Dosto mera naam hai Sonu malhotra, main uttar pradesh ka rahane vaala hoon. Yah mera pahala collge ka Aisa anubhav tha, jo mujhe aaj bhi yaad hai.

Darasal main 10 tak aise School mein padhai ki hai Jahaan ladakiyon ka naamonisha nahin. Matalab Ki sirf ladako ka School tha.

Maine 11 vee mein admission ke liye college mein daakhila liya aur main pahale din apane college pahucha. Yah August ka Mahina tha, aur dopahar ke samay Halki Halki baarish shuru ho gayi thi.

ab aapko pata to hoga ki College mein ladaka Ladki saath hi padte hai. To es college mein bhi bahut se ladaka ladki the aur ham aise School se aaye the Jahan sirf ladake hi the.

Isliye Ladkiyon ko dekh kar hamaare man mein kuchh ajeeb sa ho raha tha. Yah baaten vahi ladake Jante Honge Jo sirf ladko wale school mein Padate ho. Main us college mein apane aap ko bahut ashaj mahasoos kar raha tha.

love story in hindi, short love story in hindi
love story

Love story in Hindi - jab usako Main Pehli Baar Dekha

Ab Jo Barish Halki Halki ho rahi thi yah tej hone Lagi. Main college ke maidan Se Bhag kar Ek hole Mein Aaya. Yah mukhya hole tha Jisme college ki building me Pravesh karne ka Gate tha. Waha Aur Bhi Ladke ladkiyan Khade the Jo Barish ke Rukne Ka Intezar kar rahe the. Tabhi ladke ladkiyo ka ek group wha aaya usme Ek Ladki bhi thi Jis Par jakar Meri Nazar atak Gayi. Pata nahi kyu Main Nahi Janta.

Us ladki ne Narangi Rang ka suit pehan Rakha tha .Uske Baal Lambe the Kyunki uski Moti choti niche Tak thi. Sawla Rang Aur Aankhen badi badi aur in Badi badi Aankhon Ko Hum dekh rahe the.

Phir Achanak Hamare dimag Mein Khayal Aaya ki Hame apni Nazre Neeche kar leni chahiye Kahi vh Hame dekh na le Aur unke dimaag mein Hamare Liye Lucha lafanga ladke ki tasveer Na Ban Jaye.

Lekin Chori Chori Nazron Se Main usse dekh raha tha vh baki ladkiyon se baat nahi kar rahi thi Chup chap Barish ko dekh rahi thi Aur Main use. Main andar hi andar Soch Raha Tha Kya Ye Ladki mujhse baat karegi, Shayad nahi.

Kyon Ki Hum dikhne Mein itne bhi handsome nahi the Aur Jis tarike Ki Woh Ladki Thi matlab bilkul simple si. To Shayad use ladko se baat karne mein bhi Ruchi nahi hogi.

Yahi Soch kar mere dimag Mein Khayal Aaya chalo Meri Nahi To Kisi Aur ki bhi nahi Yeh Soch kar Muskura Diya. Dosto Yeh Hai Mere Jeevan ka aur mere college ka pehla Din jo ki Mere Liye bahut hi jyada alag tha khas tha

यह कहानी भी पढ़ेअधूरे प्यार की कहानी

--------------------------------------------------------------------------------------------------------

Love Story In Hindi-कॉलेज का पहला दिन और वह लड़की


दोस्तों मेरा नाम है सोनू मल्होत्रा, मैं उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूं. यह मेरा पहला कॉलेज का ऐसा अनुभव था जो मुझे आज भी याद है. दरअसल मैंने दसवीं तक ऐसे स्कूल में पढ़ाई की है जहां लड़कियों का नामोनिशान नहीं, मतलब कि सिर्फ लड़कों का स्कूल था.

मैंने 11वीं में एडमिशन के लिए कॉलेज में दाखिला लिया और मैं पहले दिन अपनी कॉलेज पहुंचा.

यह अगस्त का महीना था, और दोपहर के वक्त हल्की हल्की बारिश शुरू हो गई थी. अब आपको पता तो होगा कि कॉलेज में लड़का लड़की साथ ही पढ़ते हैं. तो इस कॉलेज में भी बहुत से लड़का लड़की थे और हम ऐसे स्कूल से आए थे जहां पर सिर्फ लड़के ही थे.

इसलिए लड़कियों को देख कर हमारे मन में कुछ अजीब सा हो रहा था. यह बातें वह लड़के जानते होंगे जो सिर्फ लड़को वाले स्कूल में पढ़ते हो. मैं उस कॉलेज में अपने आप को बहुत असहज महसूस कर रहा था.

love story in hindi,short love story
love story in hindi
Love Story In Hindi- जब उसको मेने पहली बार देखा

अब जो बारिश हल्की हल्की हो रही थी वह तेज होने लगी. मैं कॉलेज के मैदान से भागकर एक हॉल में आया. वह मुख्य होल था जिसमें कॉलेज की बिल्डिंग में प्रवेश करने का गेट था.

वहां और भी लड़का लड़कियां खड़े थे जो बारिश के रुकने का इंतजार कर रहे थे. तभी लड़के लड़कियों का एक ग्रुप वहां आया. उसमें एक लड़की थी जिस पर मेरी नजर जाकर अटक गई. पता नहीं क्यों मैं नहीं जानता.

उस लड़की ने नारंगी कलर का सूट पहन रखा था. उसके बाल लंबे थे क्योंकि उसकी मोटी चोटी नीचे तक थी. सांवला रंग और आंखें बड़ी बड़ी और इन बड़ी बड़ी आंखों को हम देख रहे थे.

फिर अचानक हमारे दिमाग में ख्याल आया कि हमें अपनी नजरें नीचे कर लेनी चाहिए कहीं वह हमे देख ना ले और उनके दिमाग में हमारे लिए लुच्चा लफंगा लड़के की तस्वीर ना बन जाए.

लेकिन चोरी चोरी नजरों से मैं उसे देख रहा था जब तक की बारिश बंद नहीं हुई. वह बाकी लड़कियों से बात नहीं कर रही थी चुपचाप बारिश को देख रही थी और मैं उसे. मैं अंदर ही अंदर सोच रहा क्या यह लड़की मुझसे बात करेगी. शायद नहीं.

क्योंकि हम दिखने में इतने भी हैंडसम नहीं थे और जिस तरीके की वह लड़की थी मतलब बिल्कुल सिंपल सी तो शायद उसे लड़कों से बात करने में भी रुचि नहीं होगी. यह सोच कर मेरे दिमाग में ख्याल आया चलो मेरी नहीं तो किसी और की भी तो नहीं और यह सोच कर मैं मुस्कुरा दिया.

दोस्तों यह मेरे जीवन का और मेरे कॉलेज का पहला दिन जो कि मेरे लिए बहुत ही ज्यादा अलग था खास था.
यह कहानी भी पढ़े अधूरे प्यार की कहानी

0 comments: